बंदर के हाथ पर पड़ा लड़की का पैर,घर को बंदरों ने घेरा बुलानी पड़ी पुलिस

22 views

दोस्तों आज हम आपको एक ऐसे घर की घटना बताने जा रहे हैं जहां पर बंदरों ने घर एवं मोहल्ले के लोगों का बाहर निकलना दुश्वार कर दिया था।

Sapne Me Monkey Dekhna In Hindi - सपने में बन्दर देखना

यह घटना गोरखपुर के दिव्य नगर कॉलोनी की है। यहां पर बंदरों का झुंड एक मकान की छत पर पहुंचा हुआ था। वही पास के कमरे में बैठी हुई एक लड़की ने इन बंदरों से खुद को बचाने के लिए कमरे का दरवाजा बंद करना चाहा। लड़की की इस कोशिश में उस लड़की का पैर एक बंदर पर पड़ गया और इस बंदर का हाथ दरवाजे में दब गया ।

Funny Monkeys.Indian Langur snatching and eating food.Hanuman Bandar.Macaque.Monkey  - YouTube

इस घटना के बाद बंदरों के झुंड ने पूरी तरह से इस घर को हर तरफ से घेर लिया । इन बंदरों से निजात पाने के लिए डायल 112 पर सूचना देकर के पुलिस बुलानी पड़ी। पुलिसकर्मियों ने मौके पर पहुंचकर इन बंदरों को भगाया और कमरे में बंद लड़की को बाहर निकाला। आपको जानकर के हैरानी होगी कि यह लड़की 3 घंटे तक इस कमरे में बंद रही और 3 घंटे तक बंदरों ने इस पूरे घर को घेर रखा था।

घर पर बंदरों ने मचाया घंटों तक उत्पात

File:An Indian monkey (bandar) in Malsi Deer Park (photo - Jim Ankan  Deka).jpg - Wikimedia Commons

आपको बता दें कि यह घटना दिव्य नगर कॉलोनी के निवासी यूको बैंक के मैनेजर के परिवार की लड़की के साथ हुई है ।इस लड़की का नाम प्रियंका है जो कि अपनी छत की दूसरी मंजिल पर बने हुए कमरे में बैठी थी। इसी बीच बंदरों का एक झुंड छत पर आया, बंदरों के डर से प्रियंका कमरे में जा कर के दरवाजा बंद करने लगी। इस दौरान एक बंदर का हाथ दरवाजे के बीच में दब गया। बस इसके बाद काफी सारी संख्या में बंदर वहां पर इकट्ठा हो गए और पूरी तरह से इस कमरे को और पूरे घर को घेर लिया।

Monkeys may share a key grammar-related skill with humans | Science News

यह बंदर घर की खिड़की पर लटककर के उत्पात मचाने लगे। आसपास के लोग भी लड़की की सहायता के लिए नहीं जा पा रहे थे। इस पूरी घटना के बाद मोहल्ले में रहने वाले दीपक कुमार ने डायल 112 पर कॉल करके सारी घटना की जानकारी दी।

पीआरवी ने पहुंचकर बंदरों को भगाया

Sapne Me Monkey Dekhna In Hindi - सपने में बन्दर देखना

इस घटना की जानकारी मिलते ही तत्काल पीआरबी 0 317 के कमांडर उपेंद्र मल्ल, मिथिलेश तिवारी एवं ड्राइवर पुरुषोत्तम पटेल वहां पहुंचे इन सभी ने छत पर जाकर के लाठी-डंडों की सहायता से इन बंदरों को भगाया। बंदरों को भगाने के बाद इन लोगों ने दरवाजा खोल करके फंसे हुए घायक बंदर का हाथ दरवाजे के बीच से निकाला । जिसके बाद यह सारे बंदर चले गए। बंदरों के जाने के बाद 3 घंटे से कमरे में बंद प्रियंका को भी कमरे से बाहर निकाला जा सका

Related Articles

No results found.

Menu