बेटी ने करवाई विधवा माँ की शादी,खुद से ढूंढा माँ के लिए पति

18 views

भारत में आज पुनर्विवाह लोगों के द्वारा अपनाया जाने लगा है। पुराने समय में विधवा महिलाओं की स्थिति बहुत बुरी हो जाता थी। और जिस स्त्री के पति मर जाते थे उन्हें काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता था। लेकिन आज हम आपको एक ऐसे विधवा महिला के बारे में बताने जा रहे हैं। जिसकी बेटी ने खुद उसकी शादी करवाई है और समाज में एक मिसाल पेश की है। दोस्तों हम बात कर रहे हैं जयपुर की निवासी संहिता की ।

बेटी ने ढूंढा अपनी विधवा माँ के लिए जीवनसाथी, समाज की पिछड़ी सोच को तोड़  करवाई दूसरी शादी - Namanbharat

संहिता वर्तमान में गुड़गांव में एक प्राइवेट कंपनी में काम करती हैं ।इन्होंने अपनी विधवा मां की जीवन को दोबारा से प्रसन्नता से भर दिया है । इन्होंने मां की झोली में एक बार फिर सुहागिन होने की सारी खुशियां भर दी है। आपको बता दें कि साल 2016 में हृदय गति रुक जाने के कारण संहिता के पिता इस दुनिया को अलविदा कह गए थे।

बेटी ने ढूंढा अपनी विधवा माँ के लिए जीवनसाथी, समाज की पिछड़ी सोच को तोड़  करवाई दूसरी शादी - Namanbharat

पिता के जाने के बाद इनकी मां गीता अग्रवाल पूरी तरह से तन्हा हो गई थी ।गीता अग्रवाल एक शिक्षिका है अपने पति के देहांत के बाद वह काफी उदास रहने लगी थी। कुछ समय बाद बेटी संहिता भी अपनी जॉब के वजह से गुड़गांव वापस आ गई थी। ऐसे में उनकी मां गीता पूरी तरह से अकेली रह गई थी।

बेटी ने कराई विधवा मां की दूसरी शादी, पिता है राजस्व इंस्पेक्टर - APN Live  हिंदी

बेटी संहिता से अपनी माँ की यह उदासी देखी नहीं जा रही थी। इसीलिए उन्होंने दिमाग से बिना बताए ही एक मैट्रिमोनी वेबसाइट पर अपनी मां की प्रोफाइल बनाई। जिसके बाद वहां अपने मां के लिए अच्छा जीवन साथी तलाशने लगी। आपको बता दें कि इस साइट के माध्यम से बांसवाड़ा के निवासी रेवन्यू इंस्पेक्टर के जी गुप्ता ने संहिता से संपर्क किया और फिर गीता अग्रवाल से शादी के लिए आगे बात बढ़ाई ।

बेटी की शादी के लिए ये सब करना बंद कर दें पिता - What today's girls want  from their fathers for their wedding

के जी गुप्ता ने बताया कि उनकी पत्नी का भी देहांत साल 2010 में हो चुका है। संहिता को केजी गुप्ता बातचीत के बाद अपनी मां के योग्य लगे और संहिता ने उन्हें अपनी मां से मिलवाया । के जी गुप्ता ने गीता अग्रवाल वालों को अपने बारे में सारी बातें बता दी । धीरे धीरे के जी गुप्ता एवं गीता अग्रवाल के बीच अच्छे संबंध बन गए। जब यह दोनों अच्छे दोस्त बन गए तब संहिता ने दोनों की शादी की बात चलाई। संहिता ने अपनी मां को शादी के लिए राजी किया और के जी गुप्ता एवं गीता अग्रवाल ने एक दूसरे से शादी कर ले ।

बेटी ने कराई विधवा मां की दूसरी शादी, पिता है राजस्व इंस्पेक्टर - APN Live  हिंदी

शादी के कारण गीता अग्रवाल का जीवन दोबारा से खुशियों से भर गया और उन्हें जीवन के आने वाले सफर के लिए एक हमसफर भी मिल गया। यह दोनों एक दूसरे का सहारा बन चुके हैं। संहिता ने अपनी मां की शादी की तस्वीरें सोशल मीडिया पर पोस्ट भी की हैं। और उसके साथ में कैप्शन में लिखा है “जब हम लोग दुखी रहते हैं तो मां हमें सामान लेती है ,लेकिन अगर मां कभी दुखी हुई तो उन्हें संभालने के लिए भी कोई घर में होना चाहिए। संहिता के इस पोस्ट पर सब लोग उनकी मां को शादी की शुभकामनाएं दे रहे हैं। और दुआ दे रहे हैं कि संहिता की मां का आगे का जीवन खुशियों से भरा रहे।

Related Articles

No results found.

Menu