राजस्थान में कांग्रेस सरकार गिरेगी या नहीं जाने पायलट का जवाब

1 views

राजस्थान में फिर से शुरू हुए सियासी बवाल में आज एक और नेता, जिनकी प्रतिक्रिया का सभी को इंतजार था, आखिरकार अपनी चुप्पी तोड़ते हुए बोल ही पड़े।

राजस्थान सरकार ( Rajasthan Congress Government ) की उदासीनता और कामकाज से नाराज होकर इस्तीफा देने वाले वरिष्ठ विधायक हेमाराम चौधरी इस्तीफे को लेकर अब पूर्व डिप्टी सीएम सचिन पायलट ( Sachin Pilot ) भी मैदान में कूद गए हैं।

हेमाराम चौधरी ( Hemaram Choudhary ) के इस्तीफे पर सचिन पायलट का बड़ा बयान सामने आया है। जिसके बाद सियासी गलियारों में हलचल शुरू हो गई है।

प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में आज मीडिया से बात करते हुए पूरी डिप्टी सीएम सचिन पायलट ने कहा कि, हेमाराम चौधरी का इस्तीफा चिंता का विषय है। हेमाराम चौधरी प्रदेश के सबसे वरिष्ठ और इमानदार विधायक हैं उनके जैसी सादगी और ईमानदारी के जैसा कोई दूसरा नेता नहीं है।

पायलट ने कहा कि, वह नेता प्रतिपक्ष, कैबिनेट मंत्री और छह बार के विधायक रहे हैं। उन्होंने अपने खून से पार्टी को सींचा है। उनका इस्तीफा देना चिंता का विषय है।

गौरतलब है कि अब तक चुप्पी साधे बैठे कई विधायक पार्टी और सरकार के प्रति मुखर होने लगे हैं. पायलट खेमे के विधायक वेद प्रकाश सोलंकी ( Ved Prakash Solanki ) की बयानबाजी तो सरकार की कार्यप्रणाली को लेकर सवाल उठा ही रही थी.

लेकिन अब गहलोत सरकार के विधायक भी बोलने लगे हैं. पचपदरा विधायक मदन प्रजापत का हेमाराम चौधरी के समर्थन में बयान देना सरकार के लिए अच्छा संकेत नहीं माना जा रहा है. सूत्रों के अनुसार, ज्यादातर विधायक सरकार के मंत्रियों की कार्यप्रणाली को लेकर नाराज दिख रहे हैं.

पार्टी आलाकमान नाराज, मांगी मामले की रिपोर्ट

राजस्थान में फिर से उठा सियासी बवाल अब पार्टी आलाकमान तक पहुंच गया है जिससे पार्टी आलाकमान बेहद नाराज हैं. जिसके बाद इस मामले पर रिपोर्ट तक मांग ली गई है.

सूत्रों की मानें तो कांग्रेस आलाकमान ने वरिष्ठ विधायक हेमाराम चौधरी के इस्तीफे और पहली बार चुनकर आए विधायक वेद प्रकाश सोलंकी की बयानबाजी को लेकर प्रदेश प्रभारी अजय माकन ( Ajay Maken ) से रिपोर्ट मांगी है.

सूत्रों के अनुसार, राहुल गांधी ( Rahul Gandhi ) खासे नाराज हैं और उन्होंने पार्टी के राष्ट्रीय संगठन महासचिव केसी वेणुगोपाल को बुलाकर अपनी नाराजगी जाहिर की है.

साथ ही उन्होंने इस मामले में प्रदेश प्रभारी अजय माकन को भी हस्तक्षेप करने को कहा है, जिसके बाद वेणुगोपाल ने प्रदेश प्रभारी अजय माकन से इस पूरे मामले की रिपोर्ट मांगी है.

Related Articles

No results found.

Menu